आत्मनिर्भर या लाचार सिस्टम


 कहने को तो बस एक कार्टून भर है लेकिन सच कहूं तो ना जाने कितनी तकलीफों को उजागर कर रहा है ये कार्टून देश के नेताओ की मरती हुई संवेदनाओ को भी रेखांकित करता है ये कितना लाचार और असहाय बना दिया सत्ता के शीर्ष पर बैठे लोगों ने देश की जनता को कड़वा है लेकिन सच यही है l 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ